Saturday, April 6, 2013

हमारा सपना

आजाद देशों की समस्या गरीबी नहीं होती है
 भूखमरी नहीं होती है
 बेरोजगारी नहीं होती है
यह तो गुलाम देशों की समस्या है
 अगर भारत में यह समस्या है तो भारत गुलाम है
अगर अफ्रीका में यह समस्या है तो अफ्रीका गुलम है
अगर दुनिया में  यह समस्या है तो दुनिया गुलाम है
फिर भी इसे आजाद कहा जा रहा है
तो समझो यह अब तक की सबसे बड़ी साजिस  है
जिसमे शामिल है दुनिया भर के बड़े लेखक और कवि
जो शब्दों के अर्थ बदलने में लगे है
 जिसमे छिपी है अब भी चिंगारी
जिन से आग लगने का डर अब भी बना हुआ है
जिसे बदल देना चाहते है आज की लोकतंत्र और आज़ादी में
 जिसे हमें कभी स्वीकार नहीं करना है
यह तो गुलामी की नयी जंजीरे है
 जिसे एक बार फिर हमें लोकतंत्र के नाम पर पहना  दिया गया है
 ताकि इसी बहाने कायम किया जा सके 
आदमी का आदमी से शोषण
 सही ठहराया जा सके लोकतंत्र के नाम पर पूंजीवाद का शासन
 पर हमारा सपना तो समाजवाद से साम्यवाद है
जिसके लिए समर्पित है जीवन। 
            - विनोद शंकर