Friday, September 6, 2013

भगत सिंह छात्र मोर्चा के कार्यकर्ताओं पर ABVP के गुंडों द्वारा किये गए हमले का विरोध करें !

 चीफ प्राक्टर अरविंद कुमार जोशी द्वारा बीसीएम कार्यकर्ताओं पर हमले का षड़यंत्र  करने तथा गुंडा तत्वों को संरक्षण देने का विरोध करें !!



  बुधवार की शाम भगत सिंह छात्र मोर्चा के सचिव, साथी रितेश विद्यार्थी और ओमप्रकाश भारतेंदु हरिश्चन्द्र छात्रावास के रूम न० १३ में भगत सिंह छात्र मोर्चा के स्थापना सम्मलेन के सन्दर्भ में एक छात्र  से मिलने के लिए गए थे और वहाँ पर उससे  बातचीत कर रहे थे | तभी वहाँ पर ABVP से जुड़े कुछ गुंडे मुंह बांध कर हांकी स्टिक लेकर गाली देते हुए उनपर  हमला करने के लिए कमरे की तरफ बढ़े | तब ये लोग अन्दर से दरवाजा बंद करके पीछे के दरवाजे से भाग निकले और कंट्रोल रूम बी.एच.यू. को मदद के लिए फोन किये | प्राक्टर की गाड़ी आने पर वे गाड़ी में  बैठ गए | इसके बाद ABVP से जुड़े कुछ छात्रों ने बाहरी गुंडों के साथ बाईक लेकर गाड़ी को घेर लिया | प्राक्टर- पुलिस के सामने उन्हें  लात- घूसों  से मारा गया | जिससे सिर,आँख और पीठ पर चोटे आयीं | प्राक्टरकर्मी, चीफ प्राक्टर से और फ़ोर्स भेजने के लिए कहते रहे लेकिन चूँकि चीफ प्राक्टर ए.के.जोशी को यह पता चल गया था की यह हमला बीसीएम के सचिव रितेश विद्यार्थी पर हुआ है इसलिए उसने करीब एक घंटे तक कोई फ़ोर्स नहीं भेजा |  उल्टे रितेश विद्यार्थी को दो घंटे तक अनावश्यक चीफ प्राक्टर कार्यालय पर बैठाये रखा गया, जहाँ पर चीफ प्राक्टर ने  उन्हें ये धमकी दिया की "अब तक तुम्हें बहुत छोड़े हैं लेकिन इस बार नहीं छोड़ेंगे | " देर रात बीसीएम कार्यकर्ता ऍफ़ आई आर दर्ज कराने के लिए लंका थाना पहुंचे लेकिन ऍफ़ आई आर दर्ज नहीं किया गया | अगले दिन संगठन के कार्यकर्ताओं ने चीफ प्राक्टर अरविंद कुमार जोशी के बर्खाश्तागी की मांग करते हुए मुख्य द्वार  बी.एच.यू. पे धरना दिया और हमलावर गुंडों पर ऍफ़ आई आर दर्ज करने के लिए थाने का घेराव किया | तब जाकर देर शाम ऍफ़ आई आर दर्ज किया गया।

  बी.एच.यू.  में प्रशासन व गुंडा तत्वों के बीच के गठजोड़ के बारे में किसी से छिपा नहीं है | विश्वविद्यालय प्रशासन के सहयोग से ऐसी घटनाएँ  पूर्व में भी होती रही हैं | बी.एच.यू. प्रशासन लगातार गुंडा तत्वों को संरक्षण प्रदान करता रहा है जिसकी वजह से ABVP  से जुड़े गुंडे आये  दिन छात्राओं के साथ छेड़खानी, दलित व कमजोर छात्रों के साथ मारपीट एवं वामपंथी संगठनों  पर हमले करते रहे हैं | विश्वविद्यालय परिसर में वामपंथी संगठनों के विस्तार की असीम सम्भावनाये हैं लेकिन प्रशासन गुंडा तत्वों के सहयोग से उन्हें बलपूर्वक  कुचलने के प्रयास में लगा रहता है |

   भगत सिंह छात्र मोर्चा समस्त जनवादी छात्र-छात्राओं,बुद्धिजीवियों एवं संगठनों से यह अपील करता है कि वे प्रशासन के साँठ-गाँठ से हुए इस हमले का विरोध करें |