Friday, July 31, 2015

बीएचयू में चल रही साजिश ,धांधली व भ्रष्टाचार का पर्दाफास करे !

  •                    बीएचयू प्रवेश परीक्षा में धांधली बंद करो !        
  •                    ऑफ़लाइन प्रवेश प्रक्रिया बहाल करो !! 


साथियों ,
             आपको पता ही है कि काशी हिन्दू विश्वविद्यालय को एक ब्राम्हणवादी हिन्दू विश्वविद्यालय बनाने का प्रयास किया जा रहा है | लेकिन अभी नई सरकार के आने पर इस विश्वविद्यालय को तेजी से साम्राज्यवाद,निजीकरण व ब्राम्हणवादी हिन्दुवाद का केंद्र बनाया जा रहा है | आपको यह भी पता होगा कि यहाँ का वीसी गिरीश चन्द्र त्रिपाठी (तथाकथित अर्थशात्री, पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप के पैरोकार) आरएसएस के है |



        इनकी नीतियों व कार्यो से कैम्पस में तानाशाही,अराजकता,भ्रष्टाचार व हिंदूवादी माहौल बढ़ रहा है | यह सब केवल ऐसे ही नहीं हो रहा है बल्कि बहुत ही संस्थागत तरीके से विभिन्न विभागों व पदो पर अपने तरह के लोगों कि नियुक्तिया कर रहा है | इसके लिए तो सायद वीसी ने कोई मीटिंग भी बुलाई थी | एक तरफ ये सारी चीजे तो हो रही है लेकिन दूसरी तरफ इसका साइड इफेक्ट भी कैम्पस व छात्रों पर पड़ना सुरु हो गया है | इसका एक ताजा उदहारण/घटना है एडमिसन प्रक्रिया में धांधली !



बीएचयू एडमिसन प्रक्रिया को ऑनलाइन कर दिया गया है | जिसकी वजह से पिछले वर्ष पूरा सत्र ही लेट रहा और छात्रों को बहुत सी दिक्कतों का सामना करना पड़ा |ऑनलाइन करके पूरी ७० प्रतिशत गावों व अन्य गैर कम्प्यूटर शिक्षित आबादी को विश्वविद्यालयी शिक्षा से काट दिया गया है | इसके बाद भी इस वर्ष तो काउंसलिंग में सीटों को बेचा भी जा रहा है |अपने तरह के लोगों का चयन किया जा रहा है | यह सब करने का मुख्य साधन है ऑनलाइन प्रवेश प्रक्रिया | 

              प्रवेश परीक्षा फॉर्म मेम कुछ गलत डेटा दर्ज होने पर ,एक ही दिन के अंदर फीस जमा नहीं होने पर ,काउंसलिंग में कुछ मिनट देर से पहुचने पर या विश्वविद्यालय की तरफ से प्रवेश की कोई सूचना नहीं मिलने पर आपका एडमिसन रद्द कर दिया जा रहा है | आपकी सीट को किसी और को दे दिया जा रहा है | 

   इसी तरह बीएफए की परीक्षा में एक थ्योरी और दो प्रक्टिकल पेपर होते है | प्रक्टिकल पेपर में छात्रों को गलत मार्क्स दिए गए है | यह मार्क्स पेन्सिल से अंकित किये गए है | यह लगातार अनुक्रमांक के एक साथ कई छात्रों के साथ हुआ | सभी छात्रों ने मिलकर ये मांग की कि प्रैक्टिकल का पुनर्मूल्यांकन हो , या फिर से परीक्षा कराया जाये और काउंसलिंग को रोक जाये | इसके लिए कोर्ट में भी अपील कि गयी है | अध्यापक बोल रहे है "मामले को दबा दो अपना रोल नंबर दो मै सही कर दूंगा | "    


     इस मामले को लेकर सभी छात्र-छात्राएं मुख्या द्वार बीएचयू पर क्रमिक भूख हड़ताल पर बैठ गए | दूसरे दिन काउंसलिंग थी सभी छात्र विजुअल आर्ट्स फैकल्टी के अंदर धरने पर बैठ गए | जिसमे बीसीएम और आईसा भी शामिल था | बीएचयू प्रशासन ने धरने पर बैठे छात्रों से हाथा-पाई और गली गलौज सुरु कर दी | लाठिया भी चलायी जिसमे दो छात्रों को छोटे भी आई | अंततः प्रॉक्टोरियल बोर्ड कि गाड़ी में सभी छात्रों को ठूस दिया गया और उन्हें ले जाकर लंका थाने छोड़ा गया | जिसमे बीसीएम कि उपाध्यक्ष आरती,सह-सचिव विनोद  व अन्य सदस्य मनीष,विनय ,सिद्धांत ,अनुपम शामिल थे |      

    थाने ने कहा आप लोग जाइए हमारा मामला नहीं है वहीँ धरना दीजिये | फिर सभी छात्र वहां से एकजुट होकर जुलूस व नरो के साथ पुनः मुख्य द्वार पर आकर धरना जारी रखा | फिर शाम को बीएचयू प्रशासन का पुतला फूंका भी  गया | अभी तक प्रशासन कोई कार्यवाही नहीं कर रहा है | अब अनसन तीसरे दिन भी जारी है | इसी तरह काउंसलिंग में धांधली के मामले बीएससी एग्रीकल्चर व लॉ में भी हुए | इसको लेकर बहुत से छात्र नाराज है और बहुत तो दूर से आये और रोते  हुए गए | 
        


 देश में जब कंप्यूटर शिक्षा ८-१० प्रतिशत हो तो साडी चीज १०० प्रतिशत ऑनलाइन करना कहा का लोकतंत्र है | यह तानाशाही है , वेबसाइट पर आप कुछ भी कर सकते है और छात्र कुछ भी नहीं देख , कर सकता है | कोई पारदर्शिता नहीं कोई स्पेस नहीं | इंसान भी मशीन १० मिनट देर से आये अब नहीं हो सकता अपडेट हो गया है |



साथियों ,
भगत सिंह छात्र मोर्चा (बीसीएम) आपसे यह अपील करता है कि इस साजिश व धांधली का पर्दाफास करें और इस खबर से अन्य लोगों को वाकिफ होने में हमारी मदद करे !




  •        विश्वविद्यालय में चल रही  साजिश व भ्रष्टाचार  का पर्दाफास करो  ! 
  •         वीसी गिरीश चन्द्र त्रिपाठी को बर्खास्त करो !!