Saturday, May 30, 2015

अम्बेडकर पेरियार स्टडी सर्कल पर लगे प्रतिबन्ध को जल्द से जल्द हटाया जाए !


अम्बेडकर-पेरियार स्टडी सर्कल,आईआईटी मद्रास को सरकार द्वारा प्रतिबन्धित कर दिया गया है । जिसका गुनाह यह था कि उस संगठन ने राजतंन्त्र में राजा के खिलाफ़ उसकी नितियों क पर्दाफ़ास किया और उसके चरित्र को बताया । इस छात्र संगठन ने कहा कि सरकार गोमांस प्रतिबन्ध और विकास के नाम पर छात्रों-युवाओं को बरगला रही है । और मोदी सरकार कारपोरेट की सरकार है । यह सच्चाई तानाशाह मोदी व उनके समुह के मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति को बर्दास्त नहीं हुआ और उसने तुरंत फ़रमान जारी कर संगठन को प्रतिबन्धित कर दिया । 

ये वही लोग है जो अम्बेडकर को कब्जाने व उनके क्रन्तिकारी विचारों को कुंद करने के लिये दलितों के हितैसी बनने का सबसे ज्यादा दिखावा कर रहें है तथा अम्बेडकर पर बडे-बडे सेमिनार कर रहे है जयंतिया मना रहे है । अम्बेडकर को एक राष्ट्रवादी नेता के रुप में पेश कर रहें है और गोलवरकर के समान बता रहें है । दुसरी तरफ़ बीएचयू में एससी-एसटी कमेटी को अम्बेडकर जयंती नहीं मनाने दिया गया ।

साथियों, इस तानाशाही रवैये व संगठन पर प्रतिबंध लगाये जाने के विरोध में उन सभी जनवादी छात्रों-बुद्धिजिवियों-नगरिको व संगठनों को आवाज बुलन्द करनी चाहिये जो अभिव्यक्ति की स्वतन्त्रता व लोकतंत्र के पक्षधर है ।
भगत सिंह छात्र मोर्चा इस घटना का विरोध करता है और अम्बेडकर पेरियार स्टडी सर्कल पर लगे प्रतिबन्ध को जल्द से जल्द हटाने की मांग करता है |