Thursday, November 6, 2014

जेल से रिहा होने के बाद आईआईटी बीएचयू के छात्रों को प्रशांत राही का सम्बोधन :

   सामाजिक-राजनीतिक कार्यकर्ता व पत्रकार प्रशांत राही जिन्होंने IIT,BHU से ही बीटेक ,एमटेक और रिसर्च किया | प्रशांत राही अपने इस करियर की सुरुआत बीएचयू की शुरुआती दिनों अर्थात बीटेक के समय से ही की थी | तब परिसर में एक संगठन गतिविधि विचार मंच कार्य करता था जिसमें मुख्य रूप से सुभाष गाताड़े आदि लोग काम कर रहे थे | उसमें प्रशांत राही ने सक्रियता से भाग लिया और सामाजिक कार्यों में इतना व्यस्त होने की वजह से रिसर्च को बीच में ही छोड़ दिया |  बाद में उत्तराखंड में अलग राज्य की मांग व बांधों के विरोध में चल रहे आंदोलनों सक्रियता से भाग लिया | फिर सामाजिक-राजनीतिक  जीवन के दौरान जेल जीवन के बारे में प्रशांत राही ने अपने अनुभव साझा किया |

 प्रशांत राही की रिहाई के लिए व UAPA,124A जैसे काले कानूनों के खिलाफ संदीप पाण्डेय के नेतृत्व में आईआईटी बीएचयू के छात्रों व भगत सिंह छात्र मोर्चा ने संयुक्त रूप से एक आंदोलन चलाया था | जिसके फलस्वरूप आज प्रशांत राही हमारे सामने है | LT-1 NEW LECTURE BUILDING IIT,BHU में चल रहे "प्रशांत राही से बातचीत" कार्यक्रम में सैकड़ों छात्र-छात्राओं,बुद्धिजीवियों ने भागीदारी की |

प्रशांत राही के रिसर्च गाइड रहे प्रोफ़ेसर ए.एन त्रिपाठी ने भी अपनी बात रखते हुए कहा कि मुझे बहुत ख़ुशी है कि प्रशांत आज हम लोगों के सामने लेक्चर दे रहा है | प्रशांत जब भी जेल से छूटता है तो मुझसे जरूर मिलाने आता है | अगर छात्र इंसानियत-समाज के बारे  में नहीं सोचेगा केवल वह स्वार्थी होता चला जायेगा तो इस पढाई का कोई मतलब नहीं |

 इसके बाद प्रश्नोत्तर का दौर चला  जिसमे कई छात्र-छात्राओं ने UAPA,नक्सलवाद ,हिंसा ,पूंजीवाद और आंदोलन में महिलाओं की भागीदारी से सम्बंधित सवाल पूछे  |
 प्रश्नोत्तर हो जाने के बाद प्रो ० असीम मुखर्जी ,सुनील सहस्त्रबुद्धे ,संदीप पाण्डेय और प्रो० आर.के.मंडल ने भी अपनी बात रखी | कार्यक्रम का संचालन  निखिल जैन ने किया |